अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.25.2014


साहित्य का नोबेल पुरस्कार - २०१४

2014 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार फ्रांस के लेखक पैट्रिक मोदियानो को दिया गया है। पैट्रिक इससे पहले ग्रैंड प्रिक्स डु रोमन डे आई एकेडमी फ्रेंकाइस, द प्रिक्स गॉनकोर्ट, द प्रिक्स मोंडियाल सीनो डेल डुका (2010) और द ऑस्ट्रेलियन स्टेट प्राइज़ फॉर यूरोपीयन लिटरेचर (2012) जैसे पुरस्कारों से सम्मानित हो चुके हैं। मोदिआनो के पिता इटली मूल के यहूदी थे। वह पेरिस में जर्मनी के कब्ज़े के दौरान बेल्जियम की अभिनेत्री से मिले थे, जिन्होंने मोडिआनो को जन्म दिया। मोदिआनो जब अपने जीवन की तीसरे दशक की शुरूआत में थे तो उन्हें अपने मित्र की माँ और फ्रांसीसी लेखिका रेमंड क्वानेयु के चलते एक बड़ी सफलता मिली और उनका परिचय गिलीमार्ड पब्लिशिंग हाउस से करवाया गया। फ्रांसीसी भाषा में उनकी 40 से अधिक कृतियाँ प्रकाशित हुई हैं। इनमें से कई अंग्रेज़ी में अनूदित हुई हैं। अंग्रेज़ी में अनूदित उनकी प्रमुख कृतियों में रिंग ऑफ रोड्स : ए नॉवेल विला ट्रिस्टे, ए ट्रेस ऑफ मेलाइस और हनीमून शामिल हैं। 1968 में पहली किताब लिखने वाले मोदियानो मुख्य रूप से इतिहास पर केंद्रित उपन्यास लिखते हैं। ''मोदियानो छोटे उपन्यास लिखते हैं। 120 या 130 पन्नों के ये उपन्यास यादों, पीछे छूट गई बातों और समय जैसे विषयों से जुड़ी होती हैं। उन्होंने बच्चों के लिए भी लिखा है लेकिन उन्हें नोबेल पुरस्कार उनके उपन्यासों के लिए दिया गया है।'

69 वर्षीय पैट्रिक मोदियानो फ्रेंच भाषा में लिखते हैं और फ्रांस में लोकप्रिय हैं। वे फ्रांस के नागरिक हैं और 11वें ऐसे फ्रांसिसी हैं, जिन्हें साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। मोदियानो के काम याद, विस्मृति, पहचान, ग्लानि पर केंद्रित रहे हैं। ये सभी वे भावनाएँ हैं जो जर्मन कब्ज़े और दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अक्सर सामने आईं। मोदियानो के 30 साल के कामों में 'अ ट्रेस ऑफ मालीस' और 'हनीमून' शामिल हैं। उनके कुछ ही उपन्यास अंग्रेज़ी में अनूदित हैं। उनकी रचनाएँ अधिकतर द्वितीय विश्व युद्ध और 1940 के दशक पर आधारित हैं। उन्होंने युद्ध से जुड़ी स्मृतियों और इसका मानव की नियति पर पड़ने वाले प्रभावों को बखूबी उकेरा है। यह पुरस्कार उनको उनकी इसी खूबी के लिए दिया गया है। पैट्रिक का अपने बारे में कहना है कि ‘मैं एक सपना बार-बार देखता था और सपने का मूल स्वर था कि अब मेरे पास लिखने के लिए कुछ नहीं बचा है। और अब मैं मुक्त हो गया हूं। लेकिन, मुझे अहसास है कि मैं मुक्त नहीं था। विडंबना है कि आज भी मैं उसी मनःस्थिति से गुज़र रहा हूँ। और मुझे विश्वास है कि कभी मुक्त नहीं हो पाऊँगा।’पैट्रिक मोदिआनो का जन्म जुलाई 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध समाप्त होने के दो महीने बाद पश्चिमी पेरिस के उपनगरीय क्षेत्र में हुआ था। वर्ष 1968 उनकी पहली कृति प्रकाशित हुई थी। इसके बाद फ्रांसीसी भाषा में उनकी 30 से अधिक कृतियाँ प्रकाशित हुईं। मोदिआनो के उपन्यास 'मिसिंग पर्सन' को 1978 में प्रतिष्ठित प्रिक्स गोनकोर्ट पुरस्कार मिला था। मोदियानो ने अपने कई ऐतिहासिक उपन्यासों में द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर द्वारा फ्रांस पर कब्ज़े के दौरान नाज़ियों के बर्बर अत्याचार और ऐसे माहौल में ज़िंदगी के लिए जूझते इंसान की कहानी कही है।

मोदियानो की पुस्तकों का अनुवाद स्वीडिश भाषा में काफी हुआ है और अंग्रेज़ी में भी कुछ उपन्यासों का अनुवाद हुआ है। नोबेल कमेटी ने उन्हें पुरस्कार देते हुए कहा, "जिस तरीके से उन्होंने यादों को प्रस्तुत किया है, उससे उन्होंने पकड़ी नहीं जा सकने वाले इंसानी भावनाओं को दिखाया है और जीवन को खोला है, पेशेवर दुनिया को भी।" कमेटी ने कहा कि फ्रांसीसी लेखक "हमारे समय के मार्सेल प्रोस्ट हैं।" मार्सेल प्रोस्ट फ्रांस के मशहूर उपन्यासकार थे। 'इन सर्च ऑफ लॉस्ट टाइम' नाम का उनका उपन्यास करीब चार हज़ार पेज का है और उसमें दो हज़ार से ज़्यादा चरित्र हैं।

वर्ष 1901 से अब तक 110 लोगों को साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया है। जब से पुरस्कार की घोषणा हुई है, सात बार यह पुरस्कार नहीं दिया गया है। नोबेल पुरस्कार के रूप में स्वीडिश साहित्य अकादमी ने 80 लाख क्रोनर (11 लाख अमेरिकी डॉलर) की राशि मोदिआनो को दी जायेगी। पैट्रिक इससे पहले ग्रैंड प्रिक्स डु रोमन डे आई एकेडमी फ्रेंकाइस, द प्रिक्स गॉनकोर्ट, द प्रिक्स मोंडियाल सीनो डेल डुका (2010) और द ऑस्ट्रेलियन स्टेट प्राइज फॉर यूरोपीयन लिटरेचर (2012) जैसे पुरस्कारों से सम्मानित हो चुके हैं। मोदिआनो के पिता इटली मूल के यहूदी थे। वह पेरिस में जर्मनी के कब्ज़े के दौरान बेल्जियम की अभिनेत्री से मिले थे, जिन्होंने मोडिआनो को जन्म दिया। मोदिआनो जब अपने जीवन की तीसरे दशक की शुरूआत में थे तो उन्हें अपने मित्र की मां और फ्रांसीसी लेखिका रेमंड क्वानेयु के चलते एक बड़ी सफलता मिली और उनका परिचय गिलीमार्ड पब्लिशिंग हाउस से करवाया गया। फ्रांसीसी भाषा में उनकी 40 से अधिक कृतियाँ प्रकाशित हुई हैं। इनमें से कई अंग्रेजी में अनूदित हुई हैं। अंग्रेजी में अनूदित उनकी प्रमुख कृतियों में रिंग ऑफ रोड्स : ए नॉवेल विला ट्रिस्टे, ए ट्रेस ऑफ मेलाइस और हनीमून शामिल हैं। उन्होंने बाल साहित्य और फिल्मों की पटकथाएं भी लिखीं। उन्होंने 1974 में निर्देशक लुई माले के साथ फीचर फिल्म लाकोब, ल्यूसिएन बनाई थी। साथ ही वह 2000 में कान फिल्म महोत्सव के निर्णायक मंडल के सदस्य रहे।

साहित्य के नोबेल को लेकर हर साल काफी कयास लगाए जाते हैं और इस बार ब्रितानी सट्टा कंपनी लैडब्रोक्स के अनुसार अफ्रीकी लेखक नगूगी वा थियोंगो और जापानी लेखक हारुकी मुराकामी का नाम सबसे ऊपर था। हालांकि लैडब्रोक्स का सट्टा फेल हो गया और फ्रांसीसी लेखक को ये पुरस्कार मिला है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें