अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.15.2012
 
 अदेह
शैलेन्द्र चौहान

आँखों में

धुँआ

जैसे अन्धा कुआँ

 

        सूरदास की आँखें

        बगुला की पाँखें

 

            तुमने मुझे छुआ

            अंधेरे में

            अदेह !

 

                मैं उड़ा

                    झपटा मछली की

                        आँख पर

 

                सूखे पोखर का

                    रहस्य

                        न मछली

                            न मछली की आँख

 

                बस

                सूखे कठोर

                मिट्टी के ढेले


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें