अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.15.2012
 
लोकतंत्र
शैलेन्द्र चौहान

चीत्कार ! हाहाकार !

भयातुर आँखें !

 

        सिसकती सभ्यता

        संस्कृति है कराहती

 

            प्रसन्न और संतुष्ट हैं

            चिकने धूर्त राजनयिक

                तुंदियल, भ्रष्ट,

                व्याभिचारी राजनेता

 

इसीलिए

लोकतंत्र स्वस्थ है ?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें