अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.15.2012
 
छवि खो गई जो
शैलेन्द्र चौहान

हो गई रात

स्याह काली

नीरव हो गया

वितान

 

खग, मृग सब

निचेष्ट

दृग ढूँढते वह

छवि खो गई जो

 

बढ़ रहा

अवसाद तम सा

साथ रजनी के

छोड़ तुमने दिया साथ

कुछ दूर चल के

 

रह गया खग

फड़फड़ाता पंख

नील अंबर में

भटकता चहुँ ओर

 

वह

लौटेगा धरा पर

होकर थकन से चूर

अनमना बैठा रहेगा

निर्जन भूखण्ड पर

अप्रभावित, अलक्ष

जग के व्यापार से


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें