अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
वो क्षण
शबनम शर्मा

क्या दे सकते हो तुम,
उस इक क्षण का हिसाब,
जो हमारे मिलन के बाद,
हमारी याद में न
तड़पा हो,
जिसकी तपिश
हम तक न पहुँची हो
जिसने कल्पना के
हिंडोले में न झुलाया हो,
नहीं, तो फिर कौन सी
रेखा पार कर नहीं पाये हम
शायद शर्म, समाज, की
बनी अनदेखी मज़बूत लक्ष्मण रेखाएँ


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें