अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.25.2016


ससुराल

शादी के बाद पहली बार रीना घर रहने आई। बड़ी मुश्किल से दस दिन रहने की अनुमति मिली थी। घर पहुँचते ही उसकी निगाहें माँ के कमरे, घर के कोने-कोने पर घूमने लगी। मैं हैरान थी ऐसा क्यूँ? कुछ देर बैठकर उसने मेरे कमरे का कोना-कोना झाड़ दिया। परदे निकाल कर दूसरे बदल दिये। हर चीज़ साफ़ कर दी। मुझे कुछ अजीब सा लगा। वह दस दिन रही, उसने घर का कोना-कोना सँवारा। मुझे किसी भी काम को हाथ न लगाने दिया। मेरे पास यह बच्ची 23 साल रही, कभी-क्भार कोई भी काम अपनी मर्ज़ी से करती तो करती वरन् हँसती-खेलती बहाने बनाकर टाल ही जाती मेरा काम। छोटे बच्चे की तरह लिपटकर फ़रमाइशें पूरी कराती। पर अब ऐसा कुछ भी न था। कल उसे वापस जाना था कि मुझसे रहा न गया। पूछ ही बैठी कि इतना बदलाव मात्र महीने भर में कैसे आ गया। वो मुस्कुरा दी फिर मुझसे लिपट कर बोली, "माँ, मेरे ससुराल में सब सुबह जल्दी उठ जाते हैं, ज़रा सी आहट सुन मैं भी जग जाती हूँ, फिर सारा दिन माँ, बापू व दादी सास, दीदी सब मिल-मिलकर काम करते हैं और दिन का पता भी नहीं चलता कहाँ निकल जाता है? रात को थक कर एकदम नींद आ जाती है, यहाँ आने से पहले महसूस हुआ कि माँ, तू अकेली कितनी थक जाती होगी, दूसरे के घर जाकर सबका ख़्याल रखना फ़र्ज़ और अपनी माँ का तिल भर भी ध्यान न रखना, कितना बड़ा अन्याय?"

"अरे पगली, ऐसा क्यों सोचा तूने?" मैंने कहा तो वह फफक पड़ी और बोली,

"माँ, जब समय था तो समझ न थी, आज समझ आई तो समय ही नहीं है। पर तेरा काम करके मुझे पहली बार जो सुकून मिला है मैं ही जानती हूँ।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें