अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
खिलौना
शबनम शर्मा

बीच बाज़ार
    खिलौने वाले
         के खिलौने
             की आवाज़ से
                 आकर्षित हो
                    कदम उसकी
                         तरफ़ बढ़े,
                             मैंने छुआ,
                                 सहलाया उन्हें
                                      व एक खिलौने
                                           को अंक में भरा

कि पीछे से कर्कश
आवाज़ ने मुझे
झंझोड़ा

“तुम्हारी बच्चों की सी
हरकतें कब खत्म होंगी”
सुनकर मेरा नन्हा बच्चा
सहम सा गया
मेरी प्रौढ़ देह के अन्दर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें