अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
चेतावनी
शबनम शर्मा

नन्ही कली अलविदा
लेने से पहले
दे गई चेतावनी,
क्या सोचते हो,
चला पाओगे वंश
मुझ बिन,
किताबों में पढ़ोगे
चूड़ी की खनखन
पायल की झन्कार
माथे की बिंदिया
बहन का प्यार
बेटी का दुलार।

चहुँ ओर पाओगे
घोर अन्धकार
क्योंकि लकी
प्रकृति है
ज्योति है
समाज का अस्तित्व
टिका है सिर्फ
इसकी कोख में
विनाश के बढ़ते कदम
रोकने होंगे,
वरन् वो दिन दूर नहीं
जब सोचोगे
हमने खुद ही कुल्हाड़ी
मारी है अपने पाँव पर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें