अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.16.2014


तन्हाई

जब तन्हाई छा जाती है
नींद कहीं दूर उड़ जाती है
वक्त की धुरी लगातार बदलती जाती है
सज जाती है यादों की महफ़िल
जो सुख दुःख, धुप छाँव सी
मन को सहलाती है
याद कभी बादल बन बरसती है
कभी धुप बन होठों पर खिल आती है
खुद से ही हँसना, रोना, गाना और बतियाना
यादों की लम्बी सैर पर निकल जाना
रात का सन्नाटा भीतर भर जाता है
जब तन्हाई आती है
यह बहुत सताती, रुलाती और तड़पाती है!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें