अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.06.2014


भूख

वो भूखी थी
कई दिनों से भूखी
अन्न का एक दाना तक
पेट में नहीं गया था
और वे नज़रें भी भूखी थीं
जो उसकी भूख मिटाना चाहती थीं
अपनी भूखी नज़रों की भूख मिटाकर
नहीं मंज़ूर था
समझौता उसे
भूख से भूख का
इसीलिए वह भूखी थी
कई दिनों से
न जाने कब तक भूखी रहेगी
दूसरों की भूख को मारकर
या मिटा लेगी भूख अपनी
उन सबकी भूख को मिटा कर!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें