अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.14.2016


मायाजाल

हृदय के मानचित्र पर पल पल
तमन्नाओं के प्रतिबिम्ब उभरते रहे,

यथार्थ को दरकिनार कर
कुछ स्वप्नों ने साँसे भरी...
छलावों की हवाएँ बहती रहीं
बहकावे अपनी चाल चलते रहे,

क़ायदों को सुला, उल्लंघन ने
जाग्रत हो अँगडाई ली..
दृढ़निश्चयता का उपहास कर
संकल्प मायाजाल में उलझते रहे,

हृदय के मानचित्र पर पल पल
तमन्नाओं के प्रतिबिम्ब उभरते रहे...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें