अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख पृष्ठ
04.29.2012

चार हाइकु

1.
आतुर पक्षी
हवा सूँघते सारे
चोंच निकाले

2.
लाली शाखा की
दे रही है संदेसा
नई ऋतु का

3.
शब्द सौंदर्य
सरसता बेजोड़
अनूठा शोध
 4.
हिन्दी का लेख
लेखन शिखर का
करे झंकृत


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें