अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.27.2017


शहीदों के नाम

आज मौन हैं मेरे शब्द
नहीं लिखनी मुझे कोई कविता
क्या सचमुच इतने समर्थ हैं मेरे शब्द
इतनी सार्थक है मेरी अभिव्यक्ति / कि
रच दूँ आपके बलिदानों को सिर्फ़ एक
कविता में....

हाँ, नहीं लिखने मुझे अपने जज़्बात
अपने अंदर उपजी असीम वेदना की लहर..
कैसे व्यक्त कर दूँ चन्द शब्दों में
आपके बच्चों की चीत्कार, जो आपके
पार्थिव शरीर से लिपट कर गूँजी थी...
और किया था –
आपकी माँ ने अपनी ममता का
अंतिम श्राद्ध...

क्या लिख पाऊँगी / कि मृत्यु के अंतिम पलों में भी
बह रहे थे आपकी आँखों से देशभक्ति का प्यार / कि
आपने कहा होगा फहरा लूँ आज तिरंगे को
आख़िरी बार / कि गोलियों से छिदे सीने में भर ली होगी
वतन की पवित्र मिट्टी / कि अपने कुनबे को
" हम जैसों" के हवाले कर हो गए शहीद......

मत रोकना आज मेरी क़लम से बहता रक्त..
सचमुच व्यर्थ हैं मेरे शब्द / खोखले हैं मेरे आँसू
जो आपके बलिदान का मान नहीं रख सकते।

पर हाँ.. डरती हूँ फिर भी कि आपका बलिदान भी
न बन कर रह जाए कोई "टॉपिक"....


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें