अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.12.2018


माँ

बच्चा, सुबह विद्यालय के लिए निकला और पढ़ाई के बाद खेल के पीरियड में ऐसा रमा कि दोपहर के तीन बज गए।

माँ डाँटेगी... डरता-डरता घर आया। माँ चौके में बैठी थी, उसके लिए खाना लेकर। देरी पर नाराज़गी बतायी पर तुरंत थाली लगा कर भोजन कराया। भूखा बच्चा जब पेट भर भोजन कर तृप्त हो गया तो, माँने अपने लिए भी दो रोटी और सब्जी उसी थाली में लगा ली।

"ये क्या माँ! तू भूखी थी अब तक?"

"तो क्या? तेरे पहले ही खा लेती क्या?" माँ ने कहा, "तेरी राह तकती तो बैठी थी।"

अपराध बोध से ग्रस्त बच्चे ने पहली बार जाना कि माँ सबसे आख़िर में ही भोजन करती है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें