अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.20.2017


धुआँ

धुआँ धुआँ हर जगह धुआँ
कण-कण क्षण-क्षण गली हर बस्ती,
धुआँ-धुआँ शहर सारा,
घर गाँव खेत खलिहान बगल के बाग़ानों में
अब तो पेड़ पौधों में लिपटा धुआँ,
राह पर भी सिमटा धुआँ,
जिधर देखो धुआँ ही धुआँ है,
व्यक्ति भी सिगरेट से फूँके धुऑ।
मन जला धुआँ सा तन में फैला धुआँ।
इधर-उधर जिधर देखो हर तरफ फैला धुआँ।
अब तो हर वक़्त धुएँ के घनेरे हैं।
बसों ट्रेन या फिर फैक्टरियों से निकलता धुआँ।
घुटता दम धुएँ से किन्तु न करता परवाह कोई।
समझ कर न समझता व्यक्ति,
सर्प- सा डसता धुआँ।
अब हृदय मे लहू-सा बहता धुआँ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें