सरिता यादव

कविता
अजनबी सी रात आयी
धुआँ
बिखराव