अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.02.2015


पीला काग़ज़

सरकारी दफ़तरों की फाइलों में
पड़ा हुआ पीला काग़ज़
पड़े-पड़े और पीला हो रहा है।

उस पर कुछ हस्ताक्षर हैं
स्टैम्प के साथ।
हस्ताक्षर करने वाले
अपने नाम और पद के साथ
साक्षात वहाँ उपस्थित हैं।

उस काग़ज़ पर अंकित है
कोई योजना जो जुड़ी है
उस किसान से
जो दूर अपनी झोंपड़ी के बाहर
इंतज़ार कर रहा है
उस काग़ज़ के सरकने का।

वो पीला काग़ज़ सरकेगा तो
उसे शायद माथे पर हाथ रखकर
ताकना नहीं पड़ेगा सूरज को।
न ही फेरना पड़ेगा मुँह लेनदार से।

फ़ाइलों में पड़ा पीला काग़ज़
और पीला हो रहा है
उसका पीलापन अब उभर आया है
किसान के चेहरे पर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें