अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.02.2015


ख़ामोशियाँ बोलती हैं (हाइकु)

1.
शाखों ने बाँधी
पातों की झाँझर तो
हवायें बोलीं।
2.
पाखी गुंजाये
हवाओं में संगीत
बासंती गीत।
3.
ठंडे सवेरे
रातों को बिछा के
रातें थीं सोयीं ।
4.
गुलमोहर
तुम्हारी ललाई से
बसंत आया।
5.
सवेरा जागा
सूर्य सा मन मेरा
धूप सा भागा।
6.
राज खोलती
कुछ ख़ामोशियाँ भी
रहें बोलतीं।
7.
सर्दी की भोर
अलाव सूरज पे
धूप तापती।
8
मीठे संवाद
चिड़ियों के खोये तो
जंगल रोये।
9.
मैल साँझ की
मटमैली करती
देह नभ की।
10.
धूप किरणें
घास पर बुनती
हरी सी दरी।
11.
सूखी है डाल
तितली - भँवरों का
बुरा है हाल।
12
नभ के माथे
सूरज का झूमर
रोशन धूप।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें