अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.06.2016


ठंडे सवेरे सर्द रातें

हाइकु
1.
रेशमी धूप
बटोरती हवाएँ
सर्दी के दिन।
2.
नभ बगिया
तितली से उड़ती
सर्द हवाएँ।
3.
सर्दी बाँटती
कोहरे में भीगती
ठंडी सी रातें।
4.
ठंडे सवेरे
आँगन में बिछा के
रातें थी सोयीं।
5.
झरने लगीं
ओस पीती सी रातें
सर्दी बुनती।
6.
सर्दी की रात
ख़ामोश आलम में
अँधेरा पीतीं।
7.
धुआँती रही
अधजले काठ सी
सर्दी की रातें।
8.
सर्द जीवन
जाने कब खिलेगी
सर्दी की धूप।
9.
सर्द मुटठी में
क़ैद था जो कोहरा
धूप में दौड़ा।
10.
सर्द चौपाल
धरा सेंकती वहाँ
धूप अलाव।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें