अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.28.2015


कैसे कैसे चोर

मदनलाल बड़बड़ा रहे थे कि आज सब्जीवाले ने लूट लिया अट्ठावन रुपये की सब्जी लेने के बाद बचे २ रुपये ना देकर चार पत्ते धनिये के ज़बरदस्ती डाल दिए। और मना किया तो खींसे निपोरकर बोला, "बाबूजी छुट्टे पैसे नहीं हैं पूरे साठ ही दे दीजिये।"

"अरे यह भी कोई बात हुई साले सब के सब सब्जी वाले इनदिनों लूटमार करने लगे हैं। उंह एक नंबर के पैसा चोर।" कोलोनी के गेट तक आते-आते मदनलाल जी यूँ ही बड़बड़ाते रहे मगर अचानक ही कुछ झुके उन्हें ज़मीन पर पाँच रुपये का एक सिक्का चमकता दिखाई दिया। मदनलाल जी ने इधर-उधर देखा और किसी को आस-पास ना पाकर चुपचाप वो सिक्का अपनी जेब के हवाले कर लिया। और पुन: सब्जी बाले पर खुन्नस निकालते आगे बढ़ गए।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें