अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.28.2015


केनवास

नन्हा राजू केनवास पर लगे रंग को गीले पानी के कपड़े से साफ़ करने की कोशिश में लगा था मगर दाग चूँकि पक्का हो चुका था इसलिए बजाय साफ़ होने के और फैलता जा रहा था। तभी मिस्टर मेहरा गार्डन में आये और प्यार से राजू को समझाने लगे, "राजू बेटा केनवास सफ़ेद होता है और एक बार इस पर कोई रंग लग जाता है तो वह कभी छूटता नहीं है। व्यर्थ कोशिश मत करो और अगली बार सोच-समझ कर सही रंग ही लगाना।"

इतनी देर में मिसेज़ मेहरा यानी राजू की माँ चाय का कप लेकर वहाँ आई और चाय देते समय गलती से मिस्टर मेहरा की कमीज़ पर कुछ बूँद छलक गयीं। मिस्टर मेहरा आगबबूला होकर मिसेज़ मेहरा को अपशब्द बोलने लगे। नन्हे राजू ने काँपते हुए क्रोधित पिता को देखा और वापस केनवास से रंग उतारने की नाकाम कोशिश करने लगा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें