अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.16.2017


मँझधार

कौन सही है कौन ग़लत
ये मैं नहीं जानता
बस इतना है की मझधार मे फँसा हूँ
सब लोग सही है अपनी जगह
बस मैं ही ग़लत हूँ
बेकार की जद्दोजहद
उस नाव को खेने का प्रयास है
जिसमें छेद ही छेद हैं
सब की समस्या है
एक दूसरे से गृह युद्ध है
बस सिर्फ़ मैं हूँ
जो उनकी नज़र में नकारा हूँ
सब अपना कर्तव्य निभा रहे
सिर्फ़ मैं आवरण ओढ़े आवारा हूँ
उसकी भी मैंने सुनी, उनकी भी
बस चिंघाड़ती आवाज़ें गूँजती हैं कानों में
क्या नदी और समुन्द्र नहीं मिलते
ये टूटी फूटी नाव कब तक चलेगी
कब तक मैं खेता रहूँगा,
आशा की किरणों की तलाश में।
लोग तुलनात्मक हो जाते हैं,
अपने ही अस्तित्व से खिलवाड़ करते हैं
इस परिपाटी को मैं भेद तो नहीं सकता
बस यही आशा है, समय सब ठीक करे
लोग मुझे और नीयत को समझें
और मेरी टूटी फूटी नाव के छेद भर जायें


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें