अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.29.2017


माँ आज मैंने तुम्हें याद किया

माँ आज मैने तुम्हे याद किया
आज तुम्हारी याद आयी
क्योंकि आज मदर डे है
आज बुद्धिजीवी तुम्हें
फ़ेसबुक पर याद करते हैं
बहू तुम्हारी लगी रही
तुम्हारी फोटो ढूँढ़ने में
पर मुआ फ़्री नेट भी
नहीं दे रहा था साथ
सबमें लगी थी होड़
फोटो पोस्ट करने की
जहाँ जिस पोस्ट में नज़र डालो
सबने तुझे महिमामंडित किया था माँ
पर क्या तू सिर्फ़ एक पोस्ट की
वस्तु रह गयी है?
इसका एहसास मुझे कचोटता रहा
तुम्हें फोन भी किया था
पर अपने स्नेह को शब्द न दे सका
और इधर-उधर की बात की
तुझे कैसे बताता माँ की
आज मदर डे है
और तेरे फोटो को कितने लाइक मिले हैं
कुछ महान हस्तियों को
तेरे लिये आँसू भी बहाते देखा
फ़िर वृंदावन में भिक्षा माँगते देखा था
वह किसकी माँ थी?
वृद्धा आश्रम में जिसे देखा था
वह किसकी माँ थी?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें