अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.16.2017


क्या देखा है तुमने

देखा है लोगों को मैंने
तूफ़ानों से लड़ते हुए
चक्रवातों को सहते हुए
अपनी मंज़िलों पर पहुँचते हुए
अपने डग के निशान छोड़ते हुए

देखा है मैंने उनको भी
अपने मद में इठलाते हुए
अपनी धुरी बनाते हुए
सुना था भरा-पूरा
पेड़ झुक जाता है
पर मैंने देखा है लोगों को तने हुए

देखा मैंने लोगों को बारिश में भीगते हुए
ठण्ड में ठिठुरते हुए
स्ट्रीट लाइट में पढ़ते हुए
क्या देखा है तुमने उनको
कुछ बनते हुए
अपने आप से लड़ते हुए

देखा है घर के कोने
में गौरैया को
घोंसला बनाते हुए
तिनका तिनका करके
आशियाना बनाते हुए
देखा है गौरैया को
चोंच से बच्चो को
खाना खिलाते हुए

क्या देखा है उस
दुष्ट कौवों को
उनका आशियाना उजाड़ते हुए
क्या देखा है तुमने
उनको बच्चों के लिये विलाप करते हुए
क्या देखा है तुमने उनको
बच्चों में भेद करते हुए
देखा है लोगों को मैंने
तूफ़ानों से लड़ते हुए


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें