अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.16.2017


अस्तित्व

क्यों अजनबी बनता जा रहा हूँ
अपने ही लोगों में
क्यों ये गलियाँ अनजान सी हो गयी हैं
क्यों लोग अब पहचानते नहीं
क्यों लोग अब नये से लगते हैं
क्यों चाय की मेहफ़िल भी फीकी लगती है
जीवन के कुछ पहलू ने ,
हमे पराया कर दिया
सबकी ज़िंदगी बदल गयी
सब कुछ छिन गया
शायद अपनी पहचान भी
अब तो लगता है
लोग भी बदल गये हैं
मेरे ऊपर आशीष न्योछावर
करने वाली नज़र भी बदल गयी है
हर बार ये नज़र किसी को खोती है
तो क्या जितनी तेज़ी से ऊँचाइयाँ
छू रहा हूँ
उतनी ही तेज़ी से अजनबी भी बनता जा रहा हूँ
क्या हर एक पायदान मुझे अपनों से
दूर ले जा रहा है
और जहाँ जी रहा हूँ वहाँ कोई अपना नहीं
तेज़ी से दौड़ता शहर और उस दौड़ में शामिल इंसान
जिसकी आवाज़ गाड़ी के आवाज़ में दब जाती है
मशीन की तरह ज़िंदगी
फ़िर मैं कौन हूँ जिसका अस्तित्व ही नहीं है
वह कहीं का नहीं है ......................
बस एक मशीन......और कुछ नहीं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें