अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.26.2014


चिड़िया रानी

चिड़िया रानी चिड़िया रानी.....
खा लो दाना पी लो पानी ......

कभी यहाँ तुम कभी वहाँ तुम
उड़ती फिरती जहाँ-तहाँ तुम
जाओगी अब कहाँ-कहाँ तुम
बैठो मेरे पास यहाँ तुम
चंचल कितनी चपल हो तुम
बूझ न पाया कोई ज्ञानी
चिड़िया रानी चिड़िया रानी......
खा लो दाना पी लो पानी .......

तिनका-तिनका चुनती हो
फिर घर अपना बुनती हो
राग हवा का सुनती हो
प्यार जहाँ में पुनती हो
मैं भी तेरे जैसी हूँ
ये कहती है मेरी नानी
चिड़िया रानी चिड़िया रानी.....
खा लो दाना पी लो पानी ......


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें