अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.27.2014


प्यास

बुझती नहीं पानी से
बुझती नहीं धन से
बुझती नहीं प्यार से
बुझती नहीं तन से
बुझती सिर्फ़ संतोष से
प्यास...


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें