अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.27.2014


दर्द का पैमाना

दर्द का अहसास
सबका अलग होता है
कोई काँटे पे
कोई फूल से
कोई धोखे पे
कोई प्रेम में
कोई खोने पे
कोई पाने पे
इसका अहसास पाता है
और ...
खोई मौत पर भी
इसे समझ नहीं पाता है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें