अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.30.2012
 
यह जूता है भाई साहब
संजीव बक्षी

यह जूता है भाई साहब
आपकी कद बढ़ाता है यह

हाथ में लिए घूम रहे हैं आप

सिर्फ कपड़ा ही नहीं
आपके विकास का मीटर

जानिए भी
जूता पहिनना

हाँ जूता पहिनए
ठीक पैर में ठीक
नहीं तो काट खाएगा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें