अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.30.2012
 
तब की बात
संजीव बक्षी

तब की बात
कुछ और थी

          एक कंकर को
            हथेली पर
                रख
                   उसने जब
                      खाई
                          पृथ्वी की कसम
     सबने
        उसकी हथेली पर
            पृथ्वी को
                रखी देखा था।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें