अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख पृष्ठ
06.03.2012

पाप ही पाप

यहाँ हो रहे पाप को देख कर
विशाल हिमालय रो रहा है
उसके आँखों से निकल रही है आँसू की धारा
पश्चाताप नहीं कर रहे हैं हम आप
बल्कि धोने में लगे हैं
अपने जीवन भर के पाप

इस सबके बावजूद कि
हम बु़द्धिमान हैं
हमें रासायनिक विधि का ज्ञान है
और हम साफ कर सकते है
गंगा को चाहे जब


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें