अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख पृष्ठ
04.09.2012

कमाल की लाईन है
यहाँ मैं अपने जूते उतार
दस कदम चलता हूँ
घास पर खुले मैदान में
बैठ जाता हूँ
लगभग लगभग रोज

एक दिन मित्र भी साथ था
उसने भी देखा देखी
अपने जूते उतार दिए वहाँ
हम दोनों दस कदम चल कर बैठे
बातें करते रहे

मन के भीतर की शाँति जैसी
कुछ उसने कहा मुझसे
जो वह महसूस कर रहा था

हम दोनो दूर रखे जूतों को
देख रहे थे
एक खिच गई सी लाईन
को देख रहे थे

एक साथ दोनो बोल उठे
’हमने वहाँ सिर्फ जूते नहीं उतारे हैं’

कमाल की लाईन है ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें