अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.02.2016


खट्टे अंगूर

लोमड़ी कूदी। फिर कूदी। फिर फिर कूदी। अंगूर तक नहीं पहुँच पाई।

चिढ़ कर बोली, "अंगूर खट्टे हैं।"

फिर एक गधा आया। अंगूर देखे। वह उछला। एक झपट्टे में अंगूर के गुच्‍छे को मुँह में भर लिया। अंगूर वाकई खट्टे थे।

गधे के मुँह से निकला, "अंगूर खट्टे हैं!"

लोमड़ी दूर से देख रही थी। हँस कर बोली, "गधा कहीं का।"

गधा गंभीरता से सोचने लगा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें