अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.04.2016


बिना तेल के दीप जलता नहीं है

बिना तेल के दीप जलता नहीं है।
उजाले बिना काम चलता नहीं है।

बिना रोज़गारी कहाँ घर चलेगा,
न हो ये अगर पेट पलता नहीं है।

दिखाते रहे रात दिन झूठे सपने,
कभी बात से हल निकलता नहीं है।

सुलाता रहा रात भर भूखे बच्चे,
मगर दुख का सूरज ये ढलता नहीं है।

कहे बात संजय सभी के हितों की
ग़लत बात पे वो मचलता नहीं है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें