संजय कुमार गिरि

दीवान
इक कहानी तुम्हें मैं..
बिना तेल के दीप जलता नहीं है
सूरत बदल गई कभी