अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.31.2008
 
मधुरिम मधुरिम हो लें
आचार्य संदीप कुमार त्यागी "दीप"

 
परिणय के धागे में प्रियतम प्रणय-प्रसून पिरो लें ।
मधु-मानस-मण्डप में अब हम मधुरिम-मधुरिम लें ।।

सस्वर मंत्रगान सा करते बन पर्जन्य-पुरोहित,
अभिमंत्रित अमृत वर्षण कर करते ताप तिरोहित ।
मधुर-मिलन के परम वचन हम सप्तपदी पर बोलें ।।

देखो हरित्‌ धरित्री पर अति हर्षित नील गगन है ,
क्षितिज पार आलिंगन करता कैसा मुदित मगन है ।
आओ हम भी बीज आज अद्वैत प्रेम का बोलें ।।

देख रही ये अपलक सुभगा ले हिय प्रिय उन्माद
मदिर मदिर ये अधर चाहते केवल प्रेम-प्रसाद ।
हीरक-हार हृदय सुन्दरतम हर अवगुण्ठन खोलें ।।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें