अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.30.2007
 
नये पत्ते डाल पर आने लगे।
सजीवन मयंक

नये पत्ते डाल पर आने लगे।
फिर परिंदे लौटकर गाने लगे।।

जो अंधेरे की तरह डसते रहे।
अब उजाले की कसम खाने लगे।।

चंद मुर्दे बैठकर श्मशान में।
ज़िंदगी का अर्थ समझाने लगे।।

उनकी ऐनक टूटकर नीचे गिरी।
दूर तक के लोग पहिचाने लगे।।

जब सियासत का नया नक्शा बना।
थे जो अंधे लोग चिल्लाने लगे।।

आईनों की साफ गोई देखकर।
सामने जाने से कतराने लगे।।

जब सच्चाई निर्वसन होने लगी।
लोग उसको वस्त्र पहनाने लगे।।
अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें