अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.23.2019


रोटी

ओ रोटी के घेरे गोल
आँख मिला मुझसे तू बोल!

तू मानव की चिर जिज्ञासा
आँख - मिचौली तेरी आशा

राज़ मगर अब सारे खोल
ओ रोटी के घेरे गोल
आँख मिला मुझसे तू बोल!

तू साँसों का अंतिम पाश
उठे, गिरे कितने इतिहास

ऐसा कुछ तेरा भूगोल
ओ रोटी के घेरे गोल
आँख मिला मुझसे तू बोल!

नाश हो, निर्माण हो
स्वप्न हो, अरमान हो

सारा जीवन तेरा मोल
ओ रोटी के घेरे गोल
आँख मिला मुझसे तू बोल!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें