एस. कमलवंशी

कविता
अम्मा! दादू बूढ़ा है