डॉ. ऋतु पल्लवी


कविता

उम्मीद
कभी-कभी यूँ ही मुस्काना 
क्यों नहीं...
बंध
मुस्काना
मृत्यु
शब्द नहीं कह पाते