ऋषिकेश खोड़के 'रूह' 


कविता

मन के हाइकु
हाँ ! मैं तन बेचती हूँ, तो क्या?