अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.04.2014


नाभिकुंड

एक सपना
दिखाई देता है मुझे बार–बार :
तुम्हारे हाथों में
थमा दी गई है एक कुल्हाड़ी
बीच बाज़ार में
और
धोबियों के मुखौटे लगाए हुए
बहुत सारे लोग
माँग रहे हैं तुमसे
मेरे प्रति अप्रेम का प्रमाण,
गुज़ारने पड़े थे न तुम्हें
कई दिवस
मेरी अशोक वाटिका में !
तभी आता है कोई
वनवासी राजकुमार,
तुम्हारे हाथ से लेकर कुल्हाड़ी
काट डालता है
मेरी नाभि में छिपे अमृतकुंड की जड़ें;
और तुम –
कटे पेड़ की तरह ढह जाती हो !

पर –
सपने तो सपने होते हैं न !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें