अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
08.04.2014


गोबर की छाप

तुमसे भागकर, राधा,
जिस दिन से शहर आया हूँ,
धो रहा हूँ
मटमैली कमीज़ को
रोज़ -
एलकोहल से, पैट्रोल से।

गाँव की सौंधी गंध तो
कभी की जाती रही
लेकिन
गोबर सनी हथेली की
इस छाप का क्या करूँ
जिसका रंग
पीठ पर
दिन-दिन गहराता जाता है !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें