अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
12.22.2007
 

पी. एम. की कुर्सी
रिकी मेहरा


पी.एम. की कुर्सी ने काँग्रेस को बुला लिया
है इस इलेक्शन ने मुझ को रुला दिया

लेहजे इस उठ रहा है सीने में दर्द का धुँआ
चेहरा बता रहा है कि सब कुछ गँवा दिया

पैरों में ठहराव था और एक आँख थी बन्द
एलाइन्स ने छोड़ा साथ और जनता ने भुला दिया

पी.एम. की कुर्सी ने कान्ग्रेस को बुला लिया
है इस इलेक्शन ने मुझ को रुला दिया

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें