रिकी मेहरा


कविता

कठिन पल
चुनाव अभियान
ज़रूरी तो नहीं
पी. एम. की कुर्सी