अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.20.2014


 तुम्हारी आँखों में

देखा है मैंने तुम्हारी आँखों में,
जिज्ञासाओं का अनवरत बहता सैलाब
थम सा क्यों गया है अब?
वह बहता, छलकता सा समुद्र।
विचारों की सीलन को
खुली धूप और बयार में सुखा दो ज़रा
कस लो मन के तारों की झंकार को
मधुर संगीत के लिए,
नूतन आरोह - अवरोह की लय के साथ।
देखा है मैंने तुम्हारी आँखों में,
जिज्ञासाओं का अनवरत बहता सैलाब
थम सा क्यों गया है अब?

कहीं दूर बियाबान में भी
बिजली कौंधती है जब,
प्रकाशित हो जाता, तम भी पल भर के लिए।
उसी एक पल में ढूँढ लेते,
जीव सारे अपना बसेरा।
देखा है मैंने तुम्हारी आँखों में,
जिज्ञासाओं का अनवरत बहता सैलाब
थम सा क्यों गया है अब?

मन के कोने में भी कभी - कभी
लग जाती है जंग,
कर लो पॉलिश, आशाओं के तेल से
चमका लो मन के कोने-कोने को।
आँखों में यह चमक,
कौंध जाये एक बार, क्षणिक ही सही
देखा है मैंने तुम्हारी आँखों में,
जिज्ञासाओं का अनवरत बहता सैलाब
थम सा क्यों गया है अब?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें