अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.20.2014


मुस्कुरा दो एक बार

 मुस्कुरा दो एक बार,
क्यों हो? समुद्र किनारे बिखरे मोतियों से अकेले,
अनमने सपनोँ से,
मुस्कुरा दो एक बार, अपनेपन से
भर लो इन सीपियों के प्यालों को, अपने अरमानों से,
रीत जायेगा री़तापन,
भर लो जीवन को, ख़ुशियों के ख़ज़ानों से,
जी लो हर पल, बीत जाएगा यूँ ही,
ये काम, भाग दौड़, ला देगा यूँ ही तुम्हें भी,
बीते कल की क़तार में ला खड़ा।
तब सोचोगे, कितना सुन्दर
यहाँ संसार फैला है पड़ा,
क्यों हो? समुद्र किनारे बिखरे मोतियों से अकेले,
अनमने सपनोँ से
मुस्कुरा दो एक बार, अपनेपन से।
भर लो, इन सीपियों के प्यालों को, अपने अरमानों से।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें