डॉ. रेणुका शर्मा

कविता
तुम्हारी आँखों में
देखो इन लहरों को
निमित्त
मुस्कुरा दो एक बार