अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
11.13.2007

पुर्सा
रज़ाउल जब्बार


 

दिमाग़ की सतह पर माज़ी की कुछ उदास यादें रिसते हुए ज़ख़्म की तरह उभरती हैं, आपके नौजवान लड़के लिस्टर की मौत की खबर ने मुझे बदहाल कर दिया है और इसीसे बाविस्ता बहुत-सी यादों की वजह से मैं बेइन्तहा उदास हूँ। इस अचानक हादसे की याद से मेरा दिमाग़ माऊफ़ हो गया है। मिसेज़ ऐरन, मुझे आपके ग़म का अन्दाज़ा है। जितना ग़म आपको है, उतना ही ग़मगीन मैं भी हूँ क्यों लिस्टर मुझे बहुत अजीज़ था। ज़िन्दगी के मैदान में और खेल के मैदान में लिस्टर बड़ा प्यारा खिलाड़ी था।

डाक्टर अनिल ने मिसेज़ ऐरन के दरवाज़े का बेल बजाने से पहले पुर्सा के लिए तैयार किए हुए जुम्ले को आहिस्ता से दोहराया। उनकी ज़ुबान में लुकनन थी। इसकी वजह से कभी-कभी वह एक लफ़्ज़ कहने के बजाय कुछ और ही कह जाते थे और कभी किसी लफ़्ज़ पर उनकी ज़बान इस बुरी तरह अटक जाती थी कि आसपास में बैठे हुए लोग कभी हमदर्दी की ख़ातिर लेकिन अक्सर बेज़ार होकर अपने अन्दाज़े के मुताबिक अपनी ही ज़बान में मुमकिना अल्फ़ाज़ रखकर जुम्ले को मजबूरन मुकम्मिल कर दिया करते थे। तब डाक्टर अनिल को बड़ी शरमिंदगी महसूस होती थी। उन्हें यों लगता था जैसे गाड़ीवान की एहतीयात के बावजूद एक बैलगाड़ी के पहिये राह की कीचड़ में फँस  गए हैं, और राहगीर उसे धक्के मारकार कीचड़ से निकाल रहे हैं।

अपने बनाए हुए जुम्ले का रिहर्सल कर लेने के बाद डाक्टर  अनिल ने कॉल बेल को दबा दिया और मिसेज़ ऐरन के ग़मगीन चेहरे को देखने की इच्छा और बढ़ गई। उन्होंने सोचा कि इस बेचारी बूढ़ी औरत की ज़िन्दगी में कितना बड़ा हादसा आया है। इनका सहारा बस यह एक ही लड़का था। सेहतमन्द, चुस्त व चालाक और खेल के मैदान का मशहूर खिलाड़ी! अस्पताल का कोई पुराना रोगी मर जाता है तो इतना दु:ख नहीं होता, लेकिन खेल के मैदान का उछलता-कूदता छलावा एकाएक छुप जाता है तो बहुत-सी आँखें नमनाक हो जाती हैं। बहुत दिल उदास हो जाते हैं। दो-तीन मिनट बाद दरवाज़ा खुला और अन्दर से मिसेज़ ऐरन की आवाज़ आई--

अन्दर आ जाओ मेरे बच्चे। ख़ुशामदीद! मैं तुम्हार ही इन्तज़ार कर रही थी।

मिसेज़ ऐरन की शक्ल नज़र नहीं आई लेकिन उनकी इसी आवाज़ को सुनकर डाक्टर अनिल ने सोचा कि कहीं लिस्टर के ग़म में मिसेज़ ऐरन पागल तो नहीं हो गई हैं! उन्होंने दरवाज़े में से आवाज़ लगाई--

 मैं डाक्टर अनिल हूँ, मिसेज़ ऐरन, मैं अन्दर आक्र क्या?”

ओह! डाक्टर अनिल हैं। अन्दर आइए डाक्टर! मिसेज़ ऐरन सामने आ गईं।

मिसेज़ ऐरन का चेहरा हशाश बशाश था। अन्दरूनी कमरे में से संगीत की हलकी-सी तान सुनाई दे रही थी। मिसेज़ ऐरन की मुस्कुराहट का जवाब डाक्टर अनिल ने भी मुस्कुराहट से दिया और कहा--

आज और अभी शहर में आया हूँ। बहुत दिनों के बाद आया हूँ। मैंने बहुत दिनों से सोचकर रखा था कि शहर आऊँगा तो सबसे पहले आप ही से मिलूँगा। इसीलिए इतनी सुबह चला आया।

 आपने अच्छा किया। मिसेज़ ऐरन ने कहा, “आवाज़ को सुनकर समझी थी, मेरा बेटा आया है। ख़ैर वह भी अब चन्द मिनटों में आता ही होगा। तब मैं ख़्वाहिश करूँगी डाक्टर  कि आप दोनों मेरे यहाँ एक साथ नाश्ता करें।

डाक्टर अनिल का सर चकराने लगा। कहीं लिस्टर की मौत की ख़बर ग़लत तो नहीं थी? लेकिन डाक्टर अनिल ने सभी अख़बारों में इस ख़बर को पढ़ा था। शहर को हर रोज़ जाने

वाले लोगों ने इस बात की तसदीक़ की थी कि लिस्टर को एक भारी लारी ने अचानक कुचल दिया था और वह वहीं पर मर गया। वह खेल के मैदान से लौट रहा था। बाहर के देश से आई हुई एक फुटबाल टीम को उसकी लीडरशिप में खेलते हुए उसके साथियों ने हरा िया था। लिस्टर ने मैदान में अपने जौहर दिखाए थे। उसकी हर अदा पर बेशुमार तालियाँ बजीं थीं। लेकिन खेल के मैदान के बाहर मौत उस पर छा जाने के लिए मुन्तज़िर खड़ी थी और लिस्टर ज़िन्दगी के मैदान में शिकस्त खा गया। लिस्टर की मौत, ज़िन्दगी की बोसीदगी की मंज़ोद एक बहुत बड़ी मिसाल थी और इस हादसे पर मज़बूत दिल के लोग भी आह भरकर रह गए थे। लेकिन मिसेज़ ऐरन की बातें सुनकर और उनके हशाशबशाश चेहरे के देखकर डाक्टर अनिल फ़िकरमंद  हो गए थे कि उन्हें पुर्सा देना चाहिए या नहीं। अपनी बात के कहने के लिए उन्हें एक तरकीब सूझी।

दीवार पर टंगी हुई लिस्टर की एक तस्वीर थी जो किसी मुसव्विर के हाथों की शाहकार थी। डाक्टर अनिल ने उसकी तरफ़ उंगली उठाते हुए कहा-

    इस तस्वीर में लिस्टर की आँखें कितनी जानदार हैं। तस्वीर को देख रहा हूँ तो यूँ लग रहा है कि लिस्टर मेरे सामने है और मो-मो.... डाक्टर अनिल के ज़ुबान की लुफनत ने उन्हें आगे बढ़ने ना दिया और मिसेज़ ऐरन ने जुम्ला मुकम्मिल नहीं किया। वह बाहर दरवाज़े की तरफ़ मेरा बच्चा कहकर भागीं क्योंकि इसी समय कॉल बेल की लतीफ़ आवाज़ गूँजी थी।

मिसेज़ ऐरन ने उस लड़के को अपने सीने से लगा लिया और दो-तीन प्यार लिए। उसका हाथ थामे वह कई क़िसम के मोहब्बत-भरे जुम्ले कहती हुई उसे टेबल की तरफ़ ले आईं और डाक्टर अनिल से परिचय करवाते हुए कहने लगीं--

 डाक्टर, यह मेरा इकलौता लड़का है। इसकी निगाहें मेरी ज़िन्दगी-भर का सकून हैं इसे जिस दिन नहीं देखती हूँ तो मेरा चैन गुम हो जाता है। अगले महीने यह बी.ए. का इम्तहान देगा। तब मैं इसे बहुत अच्छा खिलाड़ी बनाऊँगी। फिर डाक्टर अनिल की जानिब इशारा करके उन्होंने अपने बच्चे से कहा, “यह डाक्टर अनिल हैं। अपने शहर में सिविल सर्जन थे और हमारे बहुत पुराने खानदानी दोस्त। रिटायर्ड हो गए तो डाक्टर अनिल अब हमें भूल गए हैं। हमें छोड़कर गाँव में बस गए।

डाक्टर अनिल जवाब में मुस्कुरा दिए और इस आए हुए लड़के से हाथ मिलाया। मिसेज़ ऐरन यह कहती हुई रसोई में जाने लगीं, “आप लोग बातें कीजिए, मैं अभी नाश्ता परोसती हूँ। मिसेज़ ऐरन चली गईं तो डाक्टर अनिल ने पूछा, “आपका नाम?”

 जार्ज। उस लड़के ने जवाब दिया।

लेकिन मिसेज़ ऐरन के लड़के का नाम लिस्टर था। डाक्टर अनिल ने डरते-डरते आहिस्ता से कहा।

 हाँ। जार्ज ने मुस्कुराकर कहा, “लिस्टर की मौत के बाद मैं इस घर में आया हूँ। आप नहीं जानते क्या कि मैं कैसे आया?”

नहीं, नहीं जानता! डाक्टर अनिल ने जवाब दिया, “ मुख़्तसरिन जल्दी से बता दो।

 लिस्टर की मौत के हादसे ने इनके दिल पर ज़बरदस्त चोट दी। लकिन इनके होश सलामत थे। इन्होंने उन दिनों कहीं पढ़ लिया था कि अगर किसी के अजीज़ की मौत अचानक हो जाए तो चौबीस घंटों के अन्दर उस अजीज़ की आँखें दान के तौर पर किसी  दूसरे को देकर उन आँखों को ज़िन्दा रखा जा सकता है। मिसेज़ ऐरन ने चौबीस घंटों के अन्दर आई बैंक के फ़ोन किया कि वह अपने बच्चे लिस्टर की आँखें दान के तौर पर देने के लिए तैयार हैं, ताकि इससे किसी अंधे आदमी को रोशनी मिले। लिस्टर की आँखें निकाल ली गईं थीं।

हाँ, मैंने यह बात भी अख़बार में पढ़ी थी।

 इसके बाद मिसेज़ ऐरन ने मुझे चुना, जार्ज ने आहिस्ता से कहा, “मैं देख नहीं सकता था। मेरा ऑपरेशन हुआ और लिस्टर की आँखें मुझमें डाल दी गईं हैं। मैं अब देख सकता हूँ। लिस्टर की आँखों से मैं मिसेज़ ऐरन को देखता हूँ तो इन्हें यों लगता है, जैसे लिस्टर इन्हें देख रहा है। यह आँखें आख़िर लिस्टर की ही तो हैं। यह मिसेज़ ऐरन के कारण मुझे बीनाई मिलीं। इसलिए मैंने इन्हें मम्मी बनाया है। हर रोज़ मैं इनके यहाँ नाश्ता करने के लिए आता हूँ। अपने हाथ से वह मुझे खिलाती हैं। मुझे आने में कभी देर हो जाती है तो वह बेक़रार हो जाती हैं। इसलिए हमेशा वक़्त पर आता हूँ या वक़्त से बहुत पहले। देर से कभी नहीं आया।

 जार्ज!” रसोई से मिसेज़ ऐरन की मीठी सी आवाज़ आई, “तुम्हें देर तो नहीं हो रही है बेटा...

 नहीं, मम्मी, नहीं! जार्ज ने उसी मिठास से जवाब दिया।

 डाक्टर अनिल ने सोचा कि वह यहाँ पुर्सा देने आ़ए थे लेकिन मिसेज़ ऐरन को पुर्सा देना बहुत मुश्किल है। अगर वह इस मकसद के लिए अपना रटा हुआ जुम्ला दोहराएँगे तो कहीं न कहीं बड़े बेतुकेपन से उनकी ज़ुबान रुक जाएगी और अगर रुकेगी नहीं तो मिसेज़ ऐरन ज़रूर उसे रोक देंगी!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें