रवि कवि


कविता

जननी के सम्मान की खातिर
नाम है मेरा विश्वास
नहीं छोडेंगे हम धूम्रपान कभी
मतलब की नाव
मीडिया और कविता में फर्क....